कोरोनाग्रस्त मरीजों के इलाज में वरदान साबित हो रहा राजस्थान प्लाज्मा सेवा ऐप

हारेगा कोरोना, जीतेगा हिंदुस्तान

27 अक्टूबर 2020। वर्तमान में समूचा विश्व कोरोना वायरस की चपेट में है। वर्ष 2020 की पहली तिमाही से लेकर अब तक कोविड-19 वायरस अपनी विकराल स्थिति में आ चुका है। दुनिया में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 4.37 करोड़ को पार कर चुका है वहीं अब तक 11.64 लाख लोग इस बीमारी की चपेट में आने से जान गंवा चुके हैं। भारत में भी कोरोना संक्रमितों की संख्या 80 लाख के करीब पहुंचने को है और 1.20 लाख लोगों की अब तक जान जा चुकी है। विश्व में भारत संक्रमित लोगों की संख्या के लिहाज से दूसरे नबंर पर है। हालांकि देश में कोरोना संक्रमित लोगों की मृत्यु दर कम होने और बेहतर इलाज मिलने के बाद पॉजिटिव केसों की संख्या में कमी देखी जा रही है।

समूचे विश्व के लिए ये चिंता का विषय है कि अभी तक कोरोना की कोई वैक्सीन नहीं बन सकी है। इसलिए आमजन में कोरोना का भय लगातार बना हुआ है।
वैक्सीन नहीं बनने तक भारत में कोरोना संक्रमित लोगों के इलाज के लिए ”प्लाज्मा थैरेपी” वरदान साबित हो रही है। भारत समेत दुनिया के कई देश ऐसे हैं जहां कोरोना से रिकवरी रेट धीरे-धीरे बढ़ रही है जिसमें ”प्लाज्पा थैरेपी” का अहम योगदान है। कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए दिल्ली, राजस्थान, महाराष्ट्र, यूपी और मध्य प्रदेश में प्लाज्मा थैरेपी के ट्रायल पहले ही शुरू हो चुके हैं।

कोरोना वायरस के इलाज में प्लाजमा थैरेपी की उपयोगिता को ध्यान में रखते हुए मैंने ‘राजस्थान प्लाज्मा सेवा ऐप’ की शुरुआत की है जिसके उपयोग से जरूरतमंद मरीज को प्लाज्मा उपलब्ध कराने व इलाज में हरसंभव मदद पहुंचाई जा रही है। ‘राजस्थान प्लाज्मा सेवा’ ऐप प्लाज्मा दानदाता व प्लाज्मा ग्रहणकर्ता के बीच एक सेतु के रूप में विकसित किया गया है जिसके माध्यम से प्लाज्मा दानदाता के रूप में वे लोग जो कोविड-19 से स्वस्थ हो चुके हैं और प्लाज्मा दान करके कोरोना संक्रमित गंभीर मरीज को बचाना चाहते हैं उन्हें आसानी से रजिस्ट्रेशन करने की सुविधा प्रदान कर रहा है। वहीं ऐसे लोग जिन्हें कोरोना ग्रस्त गंभीर मरीज के इलाज के लिए प्लाज्मा की आवश्यकता हैं उन्हें मंच उपलब्ध कराया जा रहा है जिसमें वे अपनी जरूरत को साझा कर सकते हैं।

कोरोना वायरस से ग्रस्त गंभीर मरीज के लिए ‘प्लाज्मा’ रामबाण इलाज है जो किसी फैक्ट्री में नहीं बनता है और एक व्यक्ति के शरीर से निकलकर दूसरे व्यक्ति के शरीर में जाकर प्राण बचाने के काम आता है। राजस्थान प्लाज्मा सेवा एप्लिकेशन के माध्यम से हमारा अभिनव प्रयास उन लोगों के साथ जुड़ने की कोशिश करना है जिन्हें #COVID19 के इलाज के लिए प्लाज्मा की आवश्यकता होती है और जो स्वेच्छा से प्लाज्मा दान करने के इच्छुक है।

राजस्थान प्लाज्सा सेवा मोबाइल ऐप की टीम रजिस्ट्रेशन करने वाले लोगों से प्रतिदिन फोन के माध्यम से संपर्क स्थापित कर उनकी जरूरत के अनुसार मदद के लिए अग्रणी रहते हैं और समय-समय पर अस्पतालों व चिकित्सकीय विशेषज्ञों से चर्चा कर जरूरतमंद को प्लाज्मा दान करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। प्लाज्मा दानदाताओं व ग्रहणकर्ताओं से फोन पर बात करने के बाद उनका नाम, पता, मोबाइल नंबर, ब्लड ग्रुप और अन्य मेडिकल हिस्ट्री पता कर आवश्यकता अनुरूप साझा की जाती है। इस मोबाइल को शुरु करने का हमारा मकसद सिर्फ कोरोनाग्रस्त गंभीर मरीजों के इलाज में सहायता कर उनकी जिंदगी को बचाना है और लोगों को प्लाज्मा दान करने के लिए प्रेरित कर इससे जुड़ी भ्रांतियों को दूर करना है।

राजस्थान प्लाज्मा सेवा ऐप को मोबाइल में इंस्टॉल करना बेहद आसान है। जब लोगों से मुझे सोशल मीडिया या अन्य माध्यम से इस ऐप के माध्यम से किसी की जिंदगी बचाई जाने व आगे बढ़कर प्लाज्मा डोनेट करने के संबंध में सकारात्मक प्रतिक्रिया प्राप्त होती है तो लगता है मानो जनहित में हमारा शुरु किया एक छोटा सा प्रयास आज सार्थक सिद्ध हो रहा है। मेरा सभी लोगों से आह्वान है कि राजस्थान प्लाज्मा सेवा मोबाइल ऐप के जरिए इस पुनीत कार्य में अधिकाधिक संख्या में जुड़कर कोरोनाग्रस्त गंभीर मरीजों के जीवन को बचाने में अमूल्य योगदान दें।

मोबाइल ऐप लिंक –

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.auriga.plasmaapp

Leave a reply